हनुमान चालीसा हिंदी में – Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download

Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download
Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download for free by using directly downloading the link that is provided at the end of the article.

 

Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download
Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download.

But first, I will provide you Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi Pdf Download.

DOWNLOAD

Hanuman Chalisa Lyrics in English PDF

श्री हनुमान चालीसा हिंदी में अनुवाद सहित

 दोहा

श्री गुरु चरण सरोज रज, निज मन मुकुरु सुधारि |

बरनऊँ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि ||

“श्री गुरु महाराज के चरण कमलों की धूलि से अपने मन रूपी दर्पण को पवित्र करके श्री रघुवीर के निर्मल यश का वर्णन करता हूँ, जो चारों फल धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने वाला हे।”

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरो पवन-कुमार |

बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार ||

“हे पवन कुमार! मैं आपको सुमिरन करता हूँ। आप तो जानते ही हैं, कि मेरा शरीर और बुद्धि निर्बल है। मुझे शारीरिक बल, सद्बुद्धि एवं ज्ञान दीजिए और मेरे दुःखों व दोषों का नाश कर दीजिए।”

चौपाई

जय हनुमान ज्ञान गुण सागर,

जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥1॥

“श्री हनुमान जी!आपकी जय हो। आपका ज्ञान और गुण अथाह है। हे कपीश्वर! आपकी जय हो! तीनों लोकों, स्वर्ग लोक, भूलोक और पाताल लोक में आपकी कीर्ति है।”

राम दूत अतुलित बलधामा,

अंजनी पुत्र पवन सुत नामा॥2॥

“हे पवनसुत अंजनी नंदन! आपके समान दूसरा बलवान नहीं है।”

महावीर विक्रम बजरंगी,

कुमति निवार सुमति के संगी॥3॥

“हे महावीर बजरंग बली!आप विशेष पराक्रम वाले है। आप खराब बुद्धि को दूर करते है, और अच्छी बुद्धि वालो के साथी, सहायक है।”

कंचन बरन बिराज सुबेसा,

कानन कुण्डल कुंचित केसा॥4॥

“आप सुनहले रंग, सुन्दर वस्त्रों, कानों में कुण्डल और घुंघराले बालों से सुशोभित हैं।”

हाथ ब्रज और ध्वजा विराजे,

काँधे मूँज जनेऊ साजै॥5॥

“आपके हाथ में बज्र और ध्वजा है और कन्धे पर मूंज के जनेऊ की शोभा है।”

शंकर सुवन केसरी नंदन,

तेज प्रताप महा जग वंदन॥6॥

“हे शंकर के अवतार!हे केसरी नंदन आपके पराक्रम और महान यश की संसार भर में वन्दना होती है।”

विद्यावान गुणी अति चातुर,

राम काज करिबे को आतुर॥7॥

“आप प्रकान्ड विद्या निधान है, गुणवान और अत्यन्त कार्य कुशल होकर श्री राम काज करने के लिए आतुर रहते है।”

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया,

राम लखन सीता मन बसिया॥8॥

“आप श्री राम चरित सुनने में आनन्द रस लेते है।श्री राम, सीता और लखन आपके हृदय में बसे रहते है।”

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा,

बिकट रूप धरि लंक जरावा॥9॥

“आपने अपना बहुत छोटा रूप धारण करके सीता जी को दिखलाया और भयंकर रूप करके लंका को जलाया।”

भीम रूप धरि असुर संहारे,

रामचन्द्र के काज संवारे॥10॥

“आपने विकराल रूप धारण करके राक्षसों को मारा और श्री रामचन्द्र जी के उद्देश्यों को सफल कराया।”

लाय सजीवन लखन जियाये,

श्री रघुवीर हरषि उर लाये॥11॥

“आपने संजीवनी बूटी लाकर लक्ष्मण जी को जिलाया जिससे श्री रघुवीर ने हर्षित होकर आपको हृदय से लगा लिया।”

रघुपति कीन्हीं बहुत बड़ाई,

तुम मम प्रिय भरत सम भाई॥12॥

“श्री रामचन्द्र ने आपकी बहुत प्रशंसा की और कहा की तुम मेरे भरत जैसे प्यारे भाई हो।”

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं,

अस कहि श्री पति कंठ लगावैं॥13॥

“श्री राम ने आपको यह कहकर हृदय से लगा लिया की तुम्हारा यश हजार मुख से सराहनीय है।”

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा,

नारद, सारद सहित अहीसा॥14॥

“श्री सनक, श्री सनातन, श्री सनन्दन, श्री सनत्कुमार आदि मुनि ब्रह्मा आदि देवता नारद जी, सरस्वती जी, शेषनाग जी सब आपका गुण गान करते है।”

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते,

कबि कोबिद कहि सके कहाँ ते॥15॥

“यमराज, कुबेर आदि सब दिशाओं के रक्षक, कवि विद्वान, पंडित या कोई भी आपके यश का पूर्णतः वर्णन नहीं कर सकते।”

तुम उपकार सुग्रीवहि कीन्हा,

राम मिलाय राजपद दीन्हा॥16॥

“आपने सुग्रीव जी को श्रीराम से मिलाकर उपकार किया , जिसके कारण वे राजा बने।”

तुम्हरो मंत्र विभीषण माना,

लंकेस्वर भए सब जग जाना॥17॥

“आपके उपदेश का विभीषण जी ने पालन किया जिससे वे लंका के राजा बने, इसको सब संसार जानता है।”

जुग सहस्त्र जोजन पर भानू,

लील्यो ताहि मधुर फल जानू॥18॥

“जो सूर्य इतने योजन दूरी पर है की उस पर पहुँचने के लिए हजार युग लगे।दो हजार योजन की दूरी पर स्थित सूर्य को आपने एक मीठा फल समझकर निगल लिया।”

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहि,

जलधि लांघि गये अचरज नाहीं॥19॥

“आपने श्री रामचन्द्र जी की अंगूठी मुँह में रखकर समुद्र को लांघ लिया, इसमें कोई आश्चर्य नहीं है।”

दुर्गम काज जगत के जेते,

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥20॥

“संसार में जितने भी कठिन से कठिन काम हो, वो आपकी कृपा से सहज हो जाते है।”

राम दुआरे तुम रखवारे,

होत न आज्ञा बिनु पैसारे ॥21॥

“श्री रामचन्द्र जी के द्वार के आप रखवाले है, जिसमें आपकी आज्ञा बिना किसी को प्रवेश नहीं मिलता अर्थात आपकी प्रसन्नता के बिना राम कृपा दुर्लभ है।”

सब सुख लहै तुम्हारी सरना,

तुम रक्षक काहू को डरना ॥22॥

“जो भी आपकी शरण में आते है, उस सभी को आन्नद प्राप्त होता है, और जब आप रक्षक है, तो फिर किसी का डर नहीं रहता।”

आपन तेज सम्हारो आपै,

तीनों लोक हाँक ते काँपै॥23॥

“आपके सिवाय आपके वेग को कोई नहीं रोक सकता, आपकी गर्जना से तीनों लोक काँप जाते है।”

भूत पिशाच निकट नहिं आवै,

महावीर जब नाम सुनावै॥24॥

“जहाँ महावीर हनुमान जी का नाम सुनाया जाता है, वहाँ भूत, पिशाच पास भी नहीं फटक सकते।”

नासै रोग हरै सब पीरा,

जपत निरंतर हनुमत बीरा ॥25॥

“वीर हनुमान जी!आपका निरंतर जप करने से सब रोग चले जाते है, और सब पीड़ा मिट जाती है।”

संकट तें हनुमान छुड़ावै,

मन क्रम बचन ध्यान जो लावै॥26॥

“हे हनुमान जी! विचार करने में, कर्म करने में और बोलने में, जिनका ध्यान आपमें रहता है, उनको सब संकटों से आप छुड़ाते है।”

सब पर राम तपस्वी राजा,

तिनके काज सकल तुम साजा॥27॥

“तपस्वी राजा श्री रामचन्द्र जी सबसे श्रेष्ठ है, उनके सब कार्यों को आपने सहज में कर दिया।”

और मनोरथ जो कोइ लावै,

सोई अमित जीवन फल पावै॥28॥

“जिस पर आपकी कृपा हो, वह कोई भी अभिलाषा करे तो उसे ऐसा फल मिलता है जिसकी जीवन में कोई सीमा नहीं होती।”

चारों जुग परताप तुम्हारा,

है परसिद्ध जगत उजियारा॥ 29॥

“चारों युगों सतयुग, त्रेता, द्वापर तथा कलियुग में आपका यश फैला हुआ है, जगत में आपकी कीर्ति सर्वत्र प्रकाशमान है।”

साधु सन्त के तुम रखवारे,

असुर निकंदन राम दुलारे॥30॥

“हे श्री राम के दुलारे ! आप सज्जनों की रक्षा करते है और दुष्टों का नाश करते है।”

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता,

अस बर दीन जानकी माता॥31॥

“आपको माता श्री जानकी से ऐसा वरदान मिला हुआ है, जिससे आप किसी को भी आठों सिद्धियां और नौ निधियां दे सकते है।”

राम रसायन तुम्हरे पासा,

सदा रहो रघुपति के दासा॥32॥

“आप निरंतर श्री रघुनाथ जी की शरण में रहते है, जिससे आपके पास बुढ़ापा और असाध्य रोगों के नाश के लिए राम नाम औषधि है।”

तुम्हरे भजन राम को पावै,

जनम जनम के दुख बिसरावै॥33॥

“आपका भजन करने से श्री राम जी प्राप्त होते है, और जन्म जन्मांतर के दुःख दूर होते है।”

अन्त काल रघुबर पुर जाई,

जहाँ जन्म हरि भक्त कहाई॥ 34॥

“अंत समय श्री रघुनाथ जी के धाम को जाते है और यदि फिर भी जन्म लेंगे तो भक्ति करेंगे और श्री राम भक्त कहलायेंगे।”

और देवता चित न धरई,

हनुमत सेई सर्व सुख करई॥35॥

“हे हनुमान जी!आपकी सेवा करने से सब प्रकार के सुख मिलते है, फिर अन्य किसी देवता की आवश्यकता नहीं रहती।”

संकट कटै मिटै सब पीरा,

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥36॥

“हे वीर हनुमान जी! जो आपका सुमिरन करता रहता है, उसके सब संकट कट जाते है और सब पीड़ा मिट जाती है।”

जय जय जय हनुमान गोसाईं,

कृपा करहु गुरु देव की नाई॥37॥

“हे स्वामी हनुमान जी!आपकी जय हो, जय हो, जय हो!आप मुझपर कृपालु श्री गुरु जी के समान कृपा कीजिए।”

जो सत बार पाठ कर कोई,

छुटहि बँदि महा सुख होई॥38॥

“जो कोई इस हनुमान चालीसा का सौ बार पाठ करेगा वह सब बन्धनों से छुट जायेगा और उसे परमानन्द मिलेगा।”

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा,

होय सिद्धि साखी गौरीसा॥ 39॥

“भगवान शंकर ने यह हनुमान चालीसा लिखवाया, इसलिए वे साक्षी है, कि जो इसे पढ़ेगा उसे निश्चय ही सफलता प्राप्त होगी।”

तुलसीदास सदा हरि चेरा,

कीजै नाथ हृदय मँह डेरा॥40॥

“हे नाथ हनुमान जी! तुलसीदास सदा ही श्री राम का दास है।इसलिए आप उसके हृदय में निवास कीजिए।”

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुरभुप॥

About Hanuman Chalisa

Hanuman Chalisa can be described as a well-known tune composed by Saint Tulsidas at the end of the 16th century to thank Lord Hanuman to be praised for his bravery and strength, as well as his wisdom and dedication to Lord Ram. The name implies that “Hanuman Chalisa” is a hymn comprised of 40 verses in poetic form and is intended to praise and call upon the Lord Hanuman God of endless strength as well as the one who destroys evil.
Hanuman Chalisa can help you overcome your fears it keeps evil out and brings positive energy and ultimately, it provides you with the vital inner strength and determination to conquer obstacles in your life. It is recommended to say Hanuman Chalisa each day or any time you feel weak or anxious.

It is recommended to go to the Hanuman temple on a Saturday to say the Hanuman Chalisa, making a banyan leaf garland, sesame oil, paired in black lentils(black urad daal) as well as vermilion(sindoor) in order to call upon Lord Hanuman and to be blessed by the gods.Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi In Kaliyuga God Shri Ram worshipper Hanuman is a true awakening God who, when he is happy with a bit of worship, swiftly relieves any sufferings suffered by his followers. The worship of Hanuman Ji brings happiness, peace, health, and many benefits. Even the most negative of forces don’t disturb the followers of Hanumanji. Being aware of the beauty and good characteristics that are Hanumanji, Tulsidasji composed Hanuman Chalisa to be pleasing to Hanumanji. There are numerous advantages to repeating this Chalisa often, especially on the weekend, on Tuesday or Saturday, or on Tuesdays. Reciting the Hanuman Chalisa can be beneficial in removing Mars, Shani, and Pitra Doshas.

Benefits of Reading Hanuman Chalisa Lyrics in Hindi.

financial problems go away

In the text of Hanuman Chalisa, Hanuman Ji is believed to be the source of Ashtasiddhi as well as Navnidhi. The devotees frequently recite Hanuman Chalisa. Hanumanji is the answer to their every need even if it’s financial in nature. If you ever experience financial difficulties, start to recite Hanuman Chalisa and meditate about Hanuman Ji in your head. If you do this, your financial problems will gradually disappear. It is crucial to maintain the purity of your words when you are reciting.

Protection against negative forces

Hanuman Ji is regarded as strong and mighty. Lord Hanuman is a devotee to Ram is able to destroy evil spirits and free people from their shackles. The chaupai for Hanuman Chalisa ‘Bhoot ‘ vampire should not be near Mahavir in the event that the name of the god is mentioned. According to this couplet that a person who frequently recites Hanuman Chalisa is not possessed by ghosts, demons, or other evil powers within his body. If you are afraid at night or have terrifying dreams, they must be reciting Hanuman Chalisa every day.

Diseases disappear

Hanuman Ji is a mighty man and Mahavir is the supreme mighty. This fact is discussed in Ramcharit Manas to Hanuman Chalisa. The same is written in Hanuman Chalisa “Nasai Rog Harai Sab Peera. Japat continously Hanumant Bira.” When you meditate on them your body will become healthy and robust. People are often sick or have a disease that doesn’t disappear even after lots of treatments. You should be able to recite Hanuman Chalisa on a regular basis.

 

Also, read over new blogs –

brahma murari surarchita lingam lyricsin tamil

vishnu sahasranamam lyrics in english

 

to improve your wisdom and intelligence

“Scholastic is a very smart school. Ram Kaj Karibe is eager. It is evident from this Chaupai that he is a devotee of Hanuman Chalisa, that those who are able to recite Hanuman Chalisa with fervor, Hanuman Ji fill this characteristic. To receive benefits from Hanuman Ji students are often requested to do Hanuman Chalisa. Should be recited. When you recite Hanuman Chalisa throughout the student’s life, memory strength improves, and success can be attained in the educational field.

To stay clear of the negative side effects that are the result of Sade Sati and Shani

Once Shani Dev made a promise to Hanuman Ji that whoever is worshipping Hanuman Ji Shani Dev is not going to be troubled by him. To avoid the negative consequences that Shani’s Sadesati or Dhaiyya or Dhaiyya, worshipping Hanuman Ji and recitation of the chant of Hanuman Chalisa is beneficial.

Tags-
hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download, hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download free, jai hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download, hanuman chalisa lyrics in hindi pdf free download, hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download pagalworld, hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download free mp3, hanuman chalisa lyrics in hindi pdf download pagalworld mp3, hanuman chalisa lyrics download in hindi pdf, hanuman chalisa lyrics in hindi download pdf

 

Shyam Sharma

Shyam is a Professional Blogger having experience of more them 4+ years. He writes about the tech religious gadgets niche in her spare time. INSTAGRAM